Humming Today…

Yeh moh moh ke dhaage Teri ungliyon se ja uljhe Koi toh toh na laage Kis tarah girah ye suljhe Hai rom rom iktaara Hai rom rom iktaara Jo baadalon mein se guzre Yeh moh moh ke dhaage Teri ungliyon se ja uljhe Koi toh toh na laage Kis tarah girah ye suljhe Tu hoga … Continue reading Humming Today…

Advertisements

उलझे रिश्ते…

​तुम रूठे, मैं रूठा, फिर मनाएगा कौन ? आज दरार है, कल खाई होगी,  फिर फासलों को मिटायेगा कौन ? मैं चुप, तुम भी चुप, इस चुप्पी को फिर तोड़ेगा कौन ? मज़ाक को लगा लोगे दिल से ,  तो रिश्ता फिर निभाएगा कौन ? दुखी मैं भी और तुम भी बिछड़कर ,  तो सोचो … Continue reading उलझे रिश्ते…